Press "Enter" to skip to content

24 साल की उम्र में राजस्थान की सबसे युवा सरपंच बनी शहनाज भरतपुर की कामां पंचायत का जीता चुनाव

राजस्थान के भरतपुर जिले में रहने वाली एक लड़की महज 24 साल की उम्र में सरपंच बन गई है. 24 साल की शहनाज यहां के कामां पंचायत से सरपंच चुनी गई हैं. उन्होंने सरपंच के चुनाव को 195 वोटों से जीता और राजस्थान की पहली महिला MBBS डॉक्टर सरपंच बन गईं.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, शहनाज ने बताया कि ‘मुझसे पहले मेरे दादाजी भी यहां से सरपंच थे. लेकिन पिछले साल अक्टूबर में कोर्ट ने वो चुनाव को खारिज कर दिया. शहनाज के दादाजी पर सरपंच के चुनाव में फर्जी शैक्षणिक योग्यता का सर्टिफिकेट देने का आरोप था, जिसके बाद कामां का सरपंच चुनाव रद्द कर दिया गया था.

इसके बाद शहनाज ने खुद चुनाव लड़ने का फैसला किया. दरअसल, राजस्थान में सरपंच का चुनाव लड़ने के लिए दसवीं पास होना अनिवार्य है. शहनाज़ ने 5वीं क्लास तक पढ़ाई जयपुर में की है. 10वीं की पढ़ाई गुरुग्राम के श्रीराम राम स्कूल, अरावली से और 12वीं की पढ़ाई भी डीपीसी मारुति कुंज से की है. एमबीबीएस की पढ़ाई के लिए शहनाज़ फिर उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद आ गईं.

 

शहनाज का कहना है कि उत्तरप्रदेश,हरियाणा और राजस्थान के मेवाज इलाकों में रहने वाले लोगों को शैक्षिक,आर्थिक और राजनीतिक दृष्टि पिछड़ा माना जाता है,अब इस पिछड़ेपन को दूर करना मेरा मुख्य मकसद रहेगा ।

More from HaryanaMore posts in Haryana »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *